बिहार राजनीति के चाणक्य प्रशांत किशोर पहुंचे हार्वर्ड

बिहार राजनीति के चाणक्य एवं जद(यु) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं| सिर्फ बिहार ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर उनकी रणनीतिक कुशलता एवं सफल राजनितिक प्रबंधन का लोहा सभी मान चुके हैं|Prashant Kishor

Harvard Universityकैंब्रिज के हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में आयोजित कॉन्फ्रेंस में प्रशांत किशोर ने “राजनीति के युवा पीढ़ी और चुनावी प्रबंधन” पर लेक्चर दिया। भारतीय समयानुसार सुबह करीब 4.30 बजे उन्होंने अपना लेक्चर दिया। उनके लेक्चर का प्रमुख विषय था – डिकोडिंग द इमर्जेंट पॉलिटिक्स ऑफ यूथ एंड डिजिटल मीडिया|

इसमें प्रशांत किशोर के साथ देश के कई और भी क्षेत्रों की जानी मानी हस्तियाँ शामिल हुई|  हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर आशुतोष वार्ष्णेय से बात करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा –

मेरे जैसे लोगों को बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया गया है। कोई भी व्यक्ति चुनावी नतीजों में बदलाव नहीं ला सकता है। हां सही प्लानिंग और प्रबंधन से आप मार्जिंन में कुछ अंतर ला सकते हैं। उन्होंने जमीनी स्तर पर काम करने पर ज्यादा जोर दिया| उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर और उससे नीचे निर्वाचित निकायों को डवलपमेंट बजट का कम से कम 50 फीसदी हिस्सा मिलना चाहिए। बहुत से विधायक और सांसद ऐसे काम कर रहे हैं, जो उनका काम नहीं है, जैसे जल निकासी का निर्माण। इस तरह का काम स्थानीय निकाय का है। सांसद और विधायक कानून बनाने के लिए होते हैं। विधायक या सांसद के चुनाव से ज्यादा पैसा जिला परिषद का चुनाव जीतने में खर्च होता है।

सक्रिय राजनीति में आने के विषय पर उन्होंने कहा कि, “मैं लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ रहा हूं। अगले कुछ सालों तक, मैं ऐसे युवाओं के साथ काम करना चाहता हूं, जो नेता बनना चाहते हैं। मैंने तय किया है कि अगले दो सालों तक एक लाख युवाओं को चिह्नित कर उन्हें सक्रिय राजनीति में लाऊंगा।” 

ये भी हुए शामिल-

हार्वर्ड इंडिया कान्फ्रेंस में प्रशांत किशोर के अलावा आध्यात्मिक गुरु जग्गी वासुदेव, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस, फिल्म निर्देशक एस एस राजामौली, योर स्टोरी आईएनसी की सीईओ श्रद्धा शर्मा, मजदूर किसान शक्ति संगठन की संस्थापक अरुणा राय, शाओमी के सीईओ मनु जैन, लोकसत्ता पार्टी के संस्थापक व अध्यक्ष जयप्रकाश नारायण, फिल्म निर्देशक पी. रंजीत और पूर्व आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमणियन भी शामिल हुए।

Rohit Jha

A writer who is willing to produce a work of art, To note, To pin down, To build up, To make something, To make a great flower out of life even if it's a cactus.

Leave a Reply