मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न केस – सुशासन बाबू पर उठी उंगली

बिहार के हाई प्रोफाइल केस में अब हाई प्रोफाइल लोग भी फंसते नज़र आ रहे हैं। अगर कुछ खबरों की मानें तो इस में सीधे तौर पर सरकार ही नही, बल्कि मुख्यमंत्री जी की भी मिली भगत सामने नज़र आती दिख रही है। हालांकि अभी तक कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी| लेकिन, बिहार के बहुचर्चित मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न केस से जुड़े मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी पूछताछ हो सकती है।

विशेष पॉक्सो कोर्ट में दायर एक याचिका के अनुसार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ ही समाज कल्याण विभाग के प्रधान सचिव अतुल प्रसाद और तत्कालीन डीएम धर्मेंद्र सिंह के खिलाफ भी जांच करने की मांग की गई है। पॉक्सो जज मनोज कुमार ने सीबीआई से इन उपरोक्त नामों के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं।

आपको बता दें कि बालिका गृह कांड में गिरफ्तार डॉक्टर अश्विनी ने अपने वकील के जरिए अर्जी दी है। इसमें मांग की गई है कि बालिका गृह के संचालन में सीएम नीतीश कुमार, समाज कल्याण प्रधान सचिव अतुल प्रसाद और तत्कालीन डीएम धर्मेंद्र सिंह की भूमिका की जांच की जाए।

इस मांग पर सीएम नीतीश के विरुद्ध जांच हो या न हो पर बिहार में राजनीति शुरू हो गई है. उपेन्द्र कुशवाहा और तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार से इस्तीफा मांगा है।

क्या था पुरा मामला

रिपोर्ट की जांच के बाद पता चला कि बालिका गृह की बच्चियों को ड्रग देकर सोते समय ही रेप किया जाता था| उन्हें कुर्सियों से बांधकर दुष्कर्म किया जाता था तथा अश्लील भोजपुरी गानों पर डांस करने को मजबूर भी किया जाता था|

सीबीआई ने शेल्टर होम केस में कुछ महीने पहले ही 73 पन्नों की चार्जशीट (शेल्टर होम पीड़ित लड़कियों के बयानों के आधार पर) दाखिल की थी|

गर्म बर्तनों से होती थी पिटाई

सीबीआई की चार्जशीट में यह भी खुलासा था की बालिका गृह की हाउस मदर्स बर्तनों को गर्म करके बच्चियों की पिटाई करती थी| शेल्टर होम के मालिक बर्जेश ठाकुर ने एक बच्ची के सिर पर वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया था|

बिहार सरकार को सुप्रीमकोर्ट से लगी थी फटकार

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को कड़ी फटकार लगाई थी| सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, “हम सरकार नही चला रहे हैं, लेकिन हम ये जानना चाहते हैं की आप कैसे सरकार चला रहे हैं? इसके साथ ही चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा था कि “आप दुर्भाग्यशाली बच्चों के साथ इस तरह बर्ताव करते हैं, कम से कम बच्चों को तो बख्श दीजिये| जिन लोगो ने यह किया वो सजा से बच नही पाएँगे कानून अपना काम करेगा।“

Rohit Jha

A writer who is willing to produce a work of art, To note, To pin down, To build up, To make something, To make a great flower out of life even if it's a cactus.

Leave a Reply